Nafrat Shayari

Nafrat shayari

These are the best Nafrat Shayari in Hindi for a girlfriend or boyfriend. Please go through these Shayari. If we love someone truly we cannot hold on to our feelings towards them.  Let’s Read These Shayari and it will help you to express your feelings.

Kabhi, Kabhi Ham Jo Sochte Hain Wo Nahin Hota Aur Jis Cheez Ka Kabhi Ummed Nahi Karte Hain Wahi Ho Jaata Hai Tab Ham Apne Ap Ko Uncomfortable Mahsoos Karne Hain. Thik Isi Tarah Jab Ham Pyaar Karte Hain Kisi Se Aur Achanak Break-Up Ho Jaata Hai Chahe Kisi Bhi Wajah Se Ho Tab Hame Mohabbat Ke Badle Nafrat Ho Jaati Hai. Us Ke Baad Jo Feelings Dil Mein Rahti Us Ko Maine Yahan Nafrat Shayari Ke Rup Mein Aap Ko Provide Kar Raha Hun. Agar Acha Lage To Share Jarur Karne Apne Facebook, Instagram Ya Whatsapp Par. Thanks In Advance!

 

Dil Mein Nafrat hai Shayari:

1. Zulm To Lazmi Hai Is Shahar Mein, Yahan Har Koi Dil Mein Nafrat Liye Firta Hai

ज़ुल्म तो लाज़मी है इस शहर में, यहां हर कोई दिल में नफ़रत लिए फिरता है

Dard Nafrat Shayari image


2. Bagawat To Hai Mujhe Apne Nafroton Ki Adawat Se
Wo Gusse Mein Bhi Pyaar Karte Hain Magar Ye Dil Samajhta Hi Nahin
बगावत तो है मुझे अपने नफरतों कि अदावत से
वो गुस्से में भी प्यार करते हैं मगर ये दिल सझता ही नहीं


3. Main Dikhawae Ki Mohabbat Nahin Karta
Gar Dil Mein Nafrat Ho To Muh Pe Bol Deta Hun
मैं दिखावे की मोहब्बत नहीं करता
गर दिल में नफरत हो तो मुंह पे बोल देता हूं


Nafrat Shayari for Girlfriend

4. Yun Na Nafrat Kiya Karo Mujhse
Main Teri Nafrat Par Fida Ho Jata Hun
यूं ना नफरत किया करो मुझसे
मै तेरी नफरत पर फिदा हो जाता हूं


5. Nafraton Ka Sila Aam Raha
Dono Ke Dilon Mein Gumaan Raha
Na Wo Rah Paaye Bichhadne Ke Baad
Aur Na Hamari Tan Mein Jaan Raha

नफरतों का सिला आम रहा
दोनों के दिलों में गुमान रहा
ना वो रह पाए बिछड़ने के बाद
और ना हमारी तन में जान रहा


6. Na Jaane Kyun Unko Hamse Nafrat Ho Gaya
Aur Hame Unki Nafrat Se Mohabbat Ho Gaya
ना जाने क्यूं उनको हमसे नफरत हो गया
और हमे उनकी नफरत से मोहब्बत हो गया


7. Mohabbat Ka Dikhawa Kar Ke Nafrat Kiya Hai Hamse
Ishq Ke Naam Par Wo Bagawat Kiya Hai Hamse
मोहब्बत का दिखावा करके नफरत किया है हमसे
इश्क़ के नाम पर वो बगावत किया है हमसे


Love Nafrat Shayari

8. Mohabbat Unke Jubaan Par Thi Aur Nafrat Dil Mein Thi
Galti Hamari Hi Thi Ki Hamne Unhen Pahchana Hi Nahi
मोहब्बत उनके जुबां पर थी और नफरत दिल में थी
गलती हमारी ही थी कि हमने उन्हें पहचाना ही नहीं


9. Nafraton Ki Basera Hai Mere Dil Mein
Kyunki Dikhawe Krna Hame Pasand Nahi
नफरतों का बसेरा है मेरे दिल में
क्यूंकि दिखावे करना हमे पसंद नहीं


10. Wo Mohabbat Ka Dawat Dekar Nafraton Ko Anjam Diya
Ishq Ke Naam Par Hame Shahar Mein Badnaam Kiya
वो मोहब्बत का दावत देकर नफरतों को अंजाम दिया
इश्क़ के नाम पर हमें शहर में बदनाम किया


11. Nafroton Ki Aag Mujhse Paali Nahin Jaati
Jhuta Pyar Mujhse Ab Sambhali Nahin Jaati
Har Baton Mein Pyar Ki Baat Karten The Wo
Ab Pyar Shabd Unke Jubaan Se Nikali Nahin Jaati

नफरतों की आग मुझे पाली नहीं जाती
झूटा प्यार मुझसे अब संभाली नहीं जाती
हर बातों में प्यार की बात करते थे वो
अब प्यार शब्द उनके जुबां से निकाली नहीं जाती


Barbadi ki dua manga Usne Shayari:

 

12. Meri Barbadi Ki Dua Manga Usne, Ham To Khush Hain Ki Nafrat Hi Sahi Hatho Ko Uthaya Usne Mere Khatir

मेरी बर्बादी की दुआ मांगा उसने,
हम तो खुश हैं कि नफ़रत ही सही हाथों को उठाया उसने मेरे खातिर

Barbadi ki dua manga Usne Shayari

Barbadi ki dua manga Usne Shayari:


13. Gul Ne Gulshan Se Gulfaam Bheja Hai
Nafrat Bhara Unka Ye Paigaam Bheja Hai
Jo Jindagi Bhar Sath Nibhane Ka Wada Kiye The
Aaj Bichaad Jaane Ka Kalaam Bheja Hai
गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है
नफरत भरा उनका ये पैगाम भेजा है
जो ज़िन्दगी भर साथ निभाने का वादा किए थे
आज बिछड़ जाने का कलाम भेजे हैं


Nafrat Shayari for Girlfriend

  • 14. Muddato Bad Apne Dil Ko Adha Kar Liya
    Aj Hamne Apne Baton Se Sajha Kar Liya
    Bujha Kar Aag Nafraton Ko Dil Mein
    Jindagi Bhar Sath Nibhane Ka Waada Kar Liyaमुद्दत्तों बाद अपने दिल को आधा कर लिया
    आज हमने अपने बातों से साझा कर लिया
    बुझा कर आग नफरतों का दिल में
    ज़िन्दगी भर साथ निभाने का वादा कर लिया


  • 15. Na Mera Khwahish Kam Hua Na Unki Chahat
    Na Mera Mohabbat Kam Hua , Na Unki Nafrat
    Na Mera Justuju Khatm Hua Aur Na Unki Hasrat
    Dono Ne Apna Apna, Farz Ada Kiyen Hai Ab Takना मेरा ख्वाहिश कम हुई ना उनकी चाहत
    ना मेरा मोहब्बत कम हुई ना उनकी नफ़रत
    ना मेरा जस्तुजु कम हुई ना उनकी हसरत
    दोनों ने अपना अपना, फ़र्ज़ अदा किए है अब तक
  • 16. Garm Hawaon Ki Lu Aa Rahi Hai
    Bhago Nafrat Ki Bu Aa Rahi Haiगर्म हवाओं की लू आ रही है
    भागो नफरत की बू आ रही है


  • 17. Aag Nafrat Ka Dil Mein Laga Kar Bhaag Gayen
    Mere Ishq Ko Nafrat Ke Taraju Par Taul Gayenआग नफरत का दिल में लगा कर भाग गए
    मेरे इश्क़ को नफरत के तराजू पर तौल गए


  • 18. Jinke Har Baton Se Ishq Ke Alfaaz Nikalte The
    Ab Unki Aankhon Mein Nafrat Bhar Gayi Haiजिनके हर बातों से इश्क़ के अल्फ़ाज़ निकलते थे
    अब उनकी आंखो में नफरत भर गई है


19. Nafrat Ki Aag Hai Jo Dil Mein Paali Tumne
Yaad Kar Ke Aayi Thi Ban Kar Sawali Tumne
Ishq Ki Bhent Se Bhara Tha Daman Tera
Meri Dil Ki Jholi Ko Kiya Tha Khali Tumne

नफ़रत की आग है जो दिल में पाली तुमने
याद कर, के आयी थी बनकर सवाली तुमने
इश्क़ की भेंट से भरा था दामन तेरा
मेरी दिल की झोली को किया था खाली तुमने


20. Ishq Mein Agar Bewafai Mile To Gam Na Karna
Apni Aankhon Ko Kisi Ke Liye Nam Na Karna
Wo Chahe Lakh Nafraten Kar Len Tumjhse
Magar Tum Apna Pyar Kabhi Kam Na Karna

इश्क़ में अगर बेवफ़ाई मिले तो गम ना करना
अपनी आंखों को किसी के लिए नम ना करना
वो चाहे लाख नफरते करले तुझसे
मगर तुम अपना प्यार कभी कम ना करना


21. Muddate Beet Jaati Hai Kisi Ko Paate Paate
Thak Jata Hun Neend Ko Ishq Ki Lori Sunate Sunate
Kitni Aasan Lafzo Me Kah Gaye Nafrat Hai Mujhe Tujhse,
Ek Main Jo Unka Naam Le Raha Hun Duniya Chhod Jate Jate

मुद्दते बीत जाती है किसी को पाते पाते
थक जाता हूं नींद को इश्क़ का लोरी सुनाते सुनाते
कितनी आसान लफ्जो में कह गए नफरत है मुझे तुझसे
एक मैं जो उनका नाम ले रहा हूं दुनिया छोड़ जाते जाते


22. Mohabbat Ka Ab Fasina Sikhlo
Har Haal Mein Tum Jina Sikhlo
Yahan Ishq Ke Naam Pe Nafrat Milti Hai
Isliye Nafraton Ka Ghont Pina Sikhlo

मोहब्बत का अब फसिना सीख लो
हर हाल में तुम जीना सिखा लो
यहां इश्क़ के नाम पे नफरत मिलती है
इसलिए नफरतों का घोंट पीना सीख लो


Teri Mohabbat Mein Kya Kya Paaya Shayari:

23. Teri Is Mohabbat Mein Hamne Kya Kya Nahi Paaya
Dard-e-Mohabbat, Zulm-o-Sitam Aur Teri Nafrat Paaya

तेरी इस मोहब्बत में हमने क्या क्या नहीं पाया
दर्द-ए-मोहब्बत, ज़ुल्म-वो-सितम, और तेरी नफ़रत पाया

Teri Mohabbat mein kya kya paaya Shayari

Teri Mohabbat mein kya kya paaya Shayari:


24. Na Jaane Kaun Si Raaj Thi Unki Aankhon Mein
Mujhe Dekte Hi Unki Palken Jhuk Gayi
Nafraton Ka Ek Silsila Jaari Ho Gaya
Aur Mohabbat Ka Har Tahni Tut Gayi

ना जाने कौन सी राज़ है उनकी आंखो में
मुझे देखते ही उनकी पलकें झुक गई
नफरतों का एक सिलसिला जारी हुआ
और मोहब्बत का हर तहनी टूट गई


25. Ishq Karna Jaana Hai Maine , Nafraton Ko Dil Mein Jagah Nahi
Bas Tu Hi Tu Hai Meri Labo Pe, Meri Jindagi Mein Dusra Koi Aur Nahin

इश्क़ करना जाना है मैंने, नफरतों को दिल में जगह नहीं
बस तू ही तू है मेरी लबों पे, मेरी ज़िन्दगी में दूसरा कोई और नहीं


26. Nafraton Se Koi Na Rishta Hai Aur Ham Na Nafrat Karte Hai
Mohabbat Wale Hain Aur Sirf Mohabbat Ham Karte Hain

नफरतों से कोई ना रिश्ता है, और हम ना नफरत करते हैं
मोहब्बत वाले हैं और सिर्फ मोहब्बत हम करते


Nafrat Shayari for DP

27. Nafrat Karne Wale Ki Talash Hai Hame
Suna Hai Har Mohabbat Mein Nafrat Hua Karti Hai

नफ़रत करने वाले की तलाश है हमे
सुना है हर मोहब्बत में नफरत हुआ करती है


28. Khwahish Mera Adhura Ho Gaya
Aj Unki Yaad Mein Sawera Ho Gaya
Ishq Nibhate Nibhate Dil Mein
Nafraton Ka Basera Ho Gaya

ख्वाहिश मेरा अधूरा हो गया
आज उनकी याद में सवेरा हो गया
इश्क़ निभाते निभाते दिल में
नफरतों का बसेरा हो गया


29. Tuhse Dagabaji Bhi Ham Tere Aetebaar Se Karenge
Tujhse Nafrat Bhi Ham Thoda Pyar Se Karenge
Yun To Bahut Sitam Dhaye Ho Mujhpar Magar
Tujhe Ahsaas Hone Ka Intejaar Karenge

तुझसे दगाबाजी भी हम तेरे एतबार से करेंगे
तुझसे नफ़रत भी हम थोड़ा प्यार से करेंगे
यूं तो बहुत सितम ढाए हो मुझ पर मगर
तुझे अहसास होने का इंतजार करेंगे


30. Dil-O-Jaan Se Jaada Chaha Tha Maine
Tujhe Dil Se Apna Banaya Tha Maine
Maloom Na Tha Nafrat Kar Loge Mujhse
Apnon Se Badhkar Tumhen Jaana Tha Maine

दिल-व-जान से ज्यादा चाहा था मैंने
तुझे दिल से अपना बनाया था मैंने
मालूम ना था नफरत कर लोगे मुझसे
अपनो से बढ़कर तुम्हे जाना था मैंने


31. Bewafaon Ka Shahar Hai Nafrat Bhare Log Rahte Hain
Ham Jaise Ishq Karne Walon Ko Yahan Gujara Hi Nahin

बेवफाओं का शहर है नफरत भरे लोग रहते हैं
हम जैसे इश्क़ करने वालों को यहां गुजारा ही नहीं


32. Mujhse Mohabbat Karni Ho To Irade Majboot Rakhna
Jara Sa Bhi Chuk Hui To Nafrat Ho Jayegi

मुझसे मोहब्बत करनी है तो इरादे मजबूत रखना
जरा सा भी चूक हुई तो नफरत हो जाएगी


33. Chahat Bhara Usne Kabhi Paigaam Likha Tha
Mohabbat Se Mujhpar Usne Kalam Likha Tha
Suna Hai Aaj Unko Hamare Jikr Se Bhi Nafrat Hai
Jisne Kabhi Apne Sine Mein Hamara Naam Likha Tha

चाहत भरा उसने कभी पैग़ाम लिखा था
मोहब्बत से उसने कलाम लिखा था
सुना है आज उनको हमारे ज़िक्र से भी नफरत है
जिसने कभी अपने सीने में हमारा नाम लिखा था


Unke dil mein Nafrat thi :

34. Unke Dil Me Nafrat Thi Magar Pyar Ham Nibhate Rahe
Kahi Wo Ruth Na Jay Isliye Ham Ghabrate Rahe
Par Wo To Bewafa The Nafrat Thi Meri Unke Dil Me
Wo Saja Dete Rahe Aur Ham Sahe Jaate Rahe

उनकी दिल में नफरत थी मगर प्यार हम निभाते रहें
कभी वो रूठ ना जाय इसलिए हम घबराते रहें
पर वो तो बेवफा थे नफ़रत थी मेरी उनके दिल में
वो सजा देते रहें और हम सहे जाते रहें

Nafrat Shayari status image


35. Tum Nafrat Ki Aag Zamane Mein Laga Do
Main Apne Pyar Ko Kabhi Jalne Nahin Dunga

तुम नफरत की आग ज़माने में लगा दो
मैं अपने प्यार को कभी जलने नहीं दूंगा


36. Nafraton Ki Zamane Mein Pyar Ki Bastiyan Basani Hai
Ishq Ki Taqat Hamein Duniya Ko Dikhani Hai

नफ़रतो की ज़माने में प्यार की बस्तियां बनानी है
इश्क़ की ताकत हमे दुनिया को दिखानी है


37. Mohabbat Aur Nafrat Mil Gayen Jo Unke
Gusse Mein Bhi Muskura Diya Unhon Ne

मोहब्बत और नफरत मिल गए जो उनके
गुस्से में भी मुस्कुरा दिया उन्होंने


38.Tum Nafrat Karte Karte Thak Jaaoge
Magar Mera Pyar Kabhi Khatam Na Hoga

तुम नफरत करते करते थक जाओगे
मगर मेरा प्यार कभी खत्म ना होगा


39. Jab Mohabbat Na Ho To Nafrat Bhi Na Kiya Karo
Tumhare Ek Ek Baat Dil Ko Chubh Jaya Karti Hai

जब मोहब्बत ना हो तो नफ़रत भी ना किया करो
तुम्हारी एक एक बात दिल को चुभ जाया करती है


Nafrat Attitude Shayari

40.Hamse Nafrat Karne Wale Khud Barbad Ho Jaate Hain
Isliye Hamse Mohabbat Hi Kiya Karo Janab

हमसे नफरत करने वाले खुद बर्बाद हो जाते हैं
इसलिए हमसे मोहब्बत ही किया करो जनाब


41. Najre Mili Aur Mohabbbat Hui
Kuch Waqt Gujra Aur Nafrat Ho Gayi

नज़रे मिली और मोहब्बत हुई
कुछ वक़्त गुजरा और नफरत हो गई


42. Hothon Pe Muskurahat Thi Aankhon Mein Nami Thi
Mohabbat To Dikhawa Tha Dil Mein Nafrat Bhari Thi

होठों पे मुस्कुराहट थी आंखों में नमी थी
मोहब्बत तो दिखावा था दिल में नफरत भरी थी


43. Mujhe Apni Mohabbat Pe Yaqeen Tha Bahut Magar
Unki Baton Ne Mujhe Nafrat Karne Par Majboor Kar Diya

मुझे अपनी मोहब्बत पे यकीन था बहुत मगर
उनकी बातों ने मुझे नफरत करने पर मजबुर कर दिया


44. Tum Nafrat Ki Aag Zamane Mein Laga Do
Meri Mohabbat Ki Hawa Yun Bujha Degi

तुम नफरत की आग ज़माने में लगा दो
मेरी मोहब्बत की हवा यूं बुझा देगी


Tujhe Chaha Shayari:

45. Tujhe Chaha Tha Dil-o-Jaan Se Maine, Bat Nafrat Ki Hui To Nafrat Hi Sahi

तुझे चाहा था दिल व जान से मैंने
बात नफ़रत की हुई तो नफरत ही सही

Nafrat Shayari image WhatsApp


46. Na Nafrat Ki Baat Hogi Na Mohabbat Ki Baat Hogi
Dil Tumne Tod Diya Ab Sirf Saja Ki Baat Hogi

ना नफरत की बात होगी ना मोहब्बत की बात होगी
दिल तुमने तोड़ दिया अब सिर्फ सजा की बात होगी


47. Nasha Aa Gayi Mujhe Ishq Ki Jaam Se
Gir Gaya Main Apni Muqaam Se
Dil Mein Basaya Tha Jis Naam Ko
Nafrat Ho Gayi Hai Hai Ab Us Naam Se

नशा आ गई मुझे इश्क़ की जाम से
गिर गया मैं अपनी मुकाम से
दिल में बसाया था जिस नाम को
नफ़रत हो गई है अब उस नाम से


48. Tasali Mil Gayi Jab Unhon Ne Dekha
Nafrat Hi Sahi Magar Najren To Mili

तसल्ली मिल गई जब उन्होंने देखा
नफ़रत ही सही मगर नज़रे तो मिली


49. Har Raah Mein Sath Diya Tha
Har Baat Mein Naam Liya Tha
Nafrat Dil Mein Thi Magar
Hathon Mein Hath Diya Tha

हर राह में साथ दिया था
हर बात में नाम लिया था
नफ़रत दिल में थी मगर
हाथों में हाथ दिया था


Nafrat Shayari English and Hindi fonts

50. Ahsas Badal Jaate Hain Bas Aur Kuch Nahin
Warna Mohabbat Aur Nafrat Ek Hi Dil Mein Hote Hain

अहसास बदल जाते हैं बस और कुछ नहीं
वरना मोहब्बत और नफरत एक ही दिल में होते हैं


51. Ajab Si Andaj Hai Unki Narajgi Ka
Nafrat Bhi Mujhse Se Hai Aur Najre Bhi Mujh Par

अजब सी अंदाज है उनकी नाराजगी का
नफ़रत भी मुझसे है और नज़रे भी मुझ पर


52. Wo Nafrat Basaye The Aur Ham Mohabbat Karte Rahe
Baat Nibhane Ki Aayi To Haqiqat Pata Chala

वो नफरत बसाए थे और हम मोहब्बत करते रहें
बात निभाने की आई तो हकीकत पता चला


53. Jab Gair Ko Maine Dil Se Laga Liya
Unki Nafrat Mohabbat Mein Badal Gayi

जब गैर को मैंने दिल से लगा लिया
उनकी नफ़रत मोहब्बत में बदल गई


54. Nafrat Ko Log To Pal Bhar Mein Samajh Lete Hain Magar
Mohabbat Ko Samjhane Mein Jindagi Beet Jaati Hai

नफ़रत को लोग तो पल भर में समझ लेते हैं मगर
मोहब्बत को समझाने में जिंदगी बीत जाती है


55. Sadiya Beet Gaye The Mohabbat Ke Saaye Mein
Ek Galti Kya Hui Nafrat Kar Baitha Unhon Ne

सदियां बीत गए थे मोहब्बत के साए में
एक गलती क्या हुई नफरत कर बैठा उन्होंने


Nafrat Ka Samandar Shayari:

56. Gajab Raah Afrat Ki Nikali Usne
Khawabo Se Bhara Dil Kar Diya Khali Usne
Wo Mere Ghar Ke Riwayat Se Khub Tha Waqif
Ab N afrat Ka Samandar Dil Mein Hai Pali Usne

गज़ब राह नफ़रत की निकाली उसने
ख्वाबों से भरा दिल कर दिया खाली उसने
वो मेरे घर के रिवायत से खूब था वाक़िफ
अब नफरत का समंदर दिल में है पाली उसने

Nafrat Shayari for DP


57.Badla Na Karo Asmano Mein Badal Ki Tarah
Han Mana Ki Ishq Main Ho Gya Hun Pagal Ki Tarah
Jab Nafrat Hai Tumhare Dil Mein Meri To Kyun
Saja Rakhe Ho Mujhe Apne Aankhon Mein Kajal Ki Tarah

बदला ना करो आसमानों में बादल की तरह
हां माना कि इश्क़ में हो गया हूं पागल की तरह
जब नफरत है तुम्हारे दिल में तो क्यों
सजा रखे हो मुझे मुझे अपने आंखों में काजल की तरह


58. Nafrat Karne Wale Bhi Mujhse Mohabbat Karte Hain
Jab Bhi Milte Hain To Kahte Hain Tujhko Chhodenge Nahi

नफ़रत करने वाले भी मुझसे मोहब्बत करते हैं
जब भी मिलते हैं तो कहते हैं तुझको छोड़ेंगे नहीं


59. Na Shikwa Hai Kisi Se Na Gila Hai Kisi Se
Unhen Nafrat Hai Mujhse To Mujhe Pyar Hai nafrat Se

ना शिक्वा है किसी से ना गिला है किसी से
उन्हें नफरत है मुझसे तो मुझे प्यार है नफरत से


60. Main Agar Qabil-E-Nafrat Hun To Chhod De Mujhko
Mujhse Dikhawae Ki Mohabbat Na Kiya Kar

मैं अगर काबिले नफ़रत हूं तो छोड़ दे मुझको
मुझसे दिखावे की मोहब्बत ना किया कर


Nafrat Shayari for Boyfriend

61. Nafrat Na Karna Mera Dil Toot Jayega
Bas Ek Bar Kah Dena Ab Teri Jarurat Nahin

नफ़रत ना करना मेरा दिल टूट जाएगा
बस एक बार कह देना अब तेरी जरूरत नहीं


62. Na Mera Ishq Hua Pura Aur Na Unki Nafrat
Bas Apna Apna Farz Tha Dono Nibha Diye

ना मेरा इश्क़ पूरा हुआ और ना उनकी नफरत
बस अपना अपना फ़र्ज़ था दोनों निभा दिए


63. Hothon Pe Muskurahat Aur Aankhon Mein Narajgi
Ye To Bata Ye Maj-E-Ishq Hai Ya Saja-E-Ishq

होठों पे मुस्कुराहट और आंखो में नाराज़गी
ये तो बता ये मजा-ए-इश्क़ है या सजा-ए-इश्क़


64. Meri Dil Ki Ahsaason Se Kheli Hai Tune
Ishq Ko Nafrat Ke Tarazu Me Toil Hai Tune

मेरी दिल की अहसासो से खेली है तूने
इश्क़ को नफरत के तराजू में तौली है तूने


65. Meri Ishq Ki Gahraiton Mein Nafraton Ki Jagah Nahi
Bas Tera Ahsas Basa Hai Mere Dil Me Dusra Aur Kuch Nahi

मेरी इश्क़ की गहराइयों में नफरतों की जगह नहीं
बस तेरा अहसास बसा है मेरे दिल में दूसरा और कुछ नहीं


66. Jinhe Nafrat Hai Mujhse Wo Shauq Se Karen
Main Har Kisi Ko Apni Mohabbat Ke Qabil Nahin Samajhta

जिन्हें नफ़रत है मुझसे वो शौक से करें
मैं हर किसी को अपने मोहब्बत के काबिल नहीं समझता


Nafrat Ka Samandar Shayari:

67. Kabhi Usne Bhi Mohabbat Ka Paigaam Likha Tha
Apne Baahon Mein Mera Wo Shaam Likha Tha
Ab Unko Hamare Naam Se Bhi Nafrat Ho Gayi
Jisne Kabhi Apne Dil Par Mera Naam Likha Tha

कभी उसने भी मोहब्बत का पैग़ाम लिखा था
अपने बाहों में मेरा वो शाम लिखा था
अब उनको हमारे नाम से भी नफ़रत हो गई
जिसने कभी अपने दिल पर मेरा नाम लिखा था

Nafrat Shayari image

The best shayari

Best Nafrat Shayari image


68. Nafrat Ho Gayi Hai Unki Naam Se
Matlabi Ko Mere Dil Mein Ab Jagah Nahin Hai

नफ़रत ही गई है उनकी नाम से
मतलबी को मेरे दिल में अब जगह नहीं


69. Agar Nafrat Karni Hai Mujhse To Irade Majboot Rakhna
Jara Si Chuk Hui To Mohabbat Ho Jayegi

अगर नफ़रत करनी है मुझसे तो इरादे मजबूत रखना
जरा सी चूक हुई तो मोहब्बत हो जाएगी


70. Kash Ke Tere Dil Par Mera War Hota
Teri Har Ada Ka Main Haqdar Hota
Tujhe Mana Leta Apni Ishq Ki Ahsaso Se Aur
Nafraton Ke Dil Mein Mera Pyar Hota

काश के तेरे दिल पर मेरा वार होता
तेरी हर अदा का मैं हकदार होता
तुझे मना लेता अपनी इश्क़ की अहसासो से और
नफरतों के दिल में मेरा प्यार होता


71. Nafrat Hamne Sikha Hi Nahin Janab
Warna Ham Bhi Kisi Ka Dil Tod Diye Hote

नफ़रत हमने सिखा ही नहीं जनाब
वरना हम भी किसी का दिल तोड़ दिए होते


72. Dil Ki Har Khwahish Mita Kar Pyar Kiya Tha
Shubh-O-Shaam Maine Unka Naam Liya Tha
Nafrat Bhi Maine Paaya Hai Us Se
Jise Maine Apna Dil-O-Jaan Diya Tha

दिल की हर ख्वाहिश मिटा कर प्यार किया था
शुभ-ओ-शाम मैंने उनका नाम लिया था
नफ़रत भी मैंने पाया है उस से
जिसे मैंने अपना दिल व जान दिया था


Nafrat shayari for friend

73. Nafrat Ko Ham Mohabbat Karte Hain,
Aur Mohabbat Pe Jaan Nishaar Kar Dete Hain
Bada Soch Samajh Kar Wada Karna Mere Yar,
Ham Ek Wade Pe Jindagi Gujaar Dete Hain

नफ़रत को हम मोहब्बत करते हैं
और मोहब्बत पे जां निशार कर देते हैं
बड़ा सोच समझ कर वादा करना मेरे यार
हम एक वादे पे जिंदगी गुजार देते हैं


74. Kuch Log Mujhse Nafrat Bas Isliye Karte Hain
Kyunki Mujhse Bahut Log Pyar Karte Hain

कुछ लोग मुझसे नफरत बस इस लिए करते हैं
क्यूंकि मुझसे बहुत लोग प्यार करते हैं


75. Gairon Ke Paas Na Jaaya Karo
Nafrat Ho Agar Dil Mein To Bataya Karo
Pal Bhar Bhi Gujarna Mushkil Hai Tere Bin
Mere Dil Ko Apne Dil Se Hataya Na Karo

गैरों के पास ना जाया करो
नफ़रत हो अगर दिल में तो बताया करो
पल भर भी गुजारना मुश्किल है तेरे बिन
मेरे दिल को अपने दिल से हटाया ना करो


76. Har Haal Mein Jina Sikh Liya
Tere Bin Ab Rahna Sikh LiyaYun Nafrat Ki Jhalak Dikhaya Na Karo
Zulm-O-Sitam Ab Sahna Sikh Liya

हर हाल में जीना सीख लिया
तेरे बिन अब रहना सीख लिया
यूं नफरत की झलक दिखाया ना करो
ज़ुल्म-ओ-सितम अब सहना सीख लिया


Aur Ye Bhi Padhe:

  1. Sad Shayri in Hindi
  2. hurt shayari
  3. Dard bhari shayari
  4. Broken heart shayari
  5. Gham Bhari Shayari
  6. bewafa shayari

77. Mahfil Mein Bula Kar Najre Churate Ho
Dekh Kar Mujhko Apna Sar Jhukate Ho
Nafrat Ho Agar Dil Mein To Bata Diya Karo
Gairon Se Milkar Kyun Mera Dil Jalate Ho

महफ़िल में बुला कर नज़रे चुराते हो
देख कर मुझको अपना सर झुकाते हो
नफ़रत हो अगर दिल में तो बता दिया करो
गैरों से मिल कर क्यूं मेरा दिल जलाते हो


Pahle Mohabbat Thi ab, Shayari:

78.Bas Thodi Si Tabdili Aa Gayi Mere Isq Mein
Pahle Mohabbat Thi Ab Nafrat Si Ho Gayi

बस थोड़ी सी तब्दीली आ गई मेरे इश्क़ में
पहले मोहब्बत थी अब नफ़रत सी हो गई

Nafrat Shayari image


79. Nafrat Thi Tere Dil Mein Phir Bhi Maine Tumko Chaha Tha
Tune Hi Awaj Na Lagayee, Hamne To Harpal Tumhe Pukara Tha

नफ़रत थी तेरे दिल में फिर भी मैंने तुमको चाहा था
तूने ही आवाज़ ना लगाई, हमने तो हरपल तुम्हें पुकारा था


80.Teri Har Ada Hame Pasand Hai, Phir Ho Chahe Nafrat Ya Ho Mohabbat
Bas Jina Hai Tere Khatir, Aur Tere Liye Hi Marne Ki Hai Chahat

तेरी हर अदा हमें पसंद, फिर हो चाहे नफ़रत या हो मोहब्बत
बस जीना है तेरे खातिर, और तेरे लिए ही मरने कि है चाहत


81. Tune Meri Jindagi Ko Kuch Is Tarah Moda Hai
Ke Ishq Aur Nafrat Dono Thoda Thoda Hai

तूने मेरी जिंदगी को कुछ इस तरह मोड़ा है
के इश्क़ और नफरत दोनों थोड़ा थोड़ा है


82. Har Sham Tere Naam Ka Gujre
Nafrat Hi Sahi Magar Didar Ho Jay
Mere Ishq Ko Tune To Pahchana Hi Nahi
Ab Teri Nafrat Se Hi Mujhe Pyar Ho Gaye

हर शाम तेरे नाम का गुजरे
नफ़रत ही सही मगर दीदार हो जाए
मेरे इश्क़ को तूने तो पहचाना ही नहीं
अब तेरी नफरत से ही मुझे प्यार हो गए


83.Gujre Hai Aaj Ishq Ki Wo Muqaam Se
Nafrat Si Ho Gayi Hai Mohabbat Ke Naam Se

गुज़रे है आज इश्क़ की वो मुकाम से
नफ़रत सी हो गई है मोहब्बत के नाम से


Nafrat Shayari Mohabbat ki Zindagi Mein

84. Nafraton Ke Aad Mein Wo Mohabbat Karte The
Kambakht Dil Unse Khilafat Kar Baitha

नफ़रतो के आड़ में वो मोहब्बत करते थे
कम्बख़त दिल उनसे ख़िलाफत कर बैठा


85. Pyar Ka Sila,
Nafrat Hai Mila
Shayad Ye Meri Qismat Mein Hi Hai,
Unse Na Hai Shikwa Na Gila

प्यार का सिला
नफ़रत है मिला
शायद ये मेरी किस्मत में ही है
उनसे ना है शीक्वा ना गिला


86. Nafrat Hi Karna Tha To Mohabbat Kyu Kiye The
Bichad Jaana Hi Tha To Waada Kyun Kiye The

नफ़रत ही करना था तो मोहब्बत क्यों किए थे
बिछड़ जाना ही था तो वादा क्यों किए थे


87. Nafrat Hi Karna Hai To Kuch Is Tarah Kare
Ke Ham Mar Jay Aur Teri Aankhon Me Aasun Na Aaye

नफ़रत ही करना है तो कुछ इस तरह करे
के हम मर जाय और तेरी आंखों में आसूं ना आए


88. Ek Nafrat Hi Nahin Jo Dard Diya Karti Hai Janab
Kabhi Kabhi Mohabbat Bhi Bada Taqleef Deti Hai

एक नफ़रत ही नहीं जो दर्द दिया करती है जनाब
कभी कभी मोहब्बत भी बड़ा तकलीफ़ देती है


Teri Nafrat Bata Rahi Hai Shayari -Nafrat shayari

89. Teri Nafrat Bata Rahi Hai Ki Kitna Mohabbat Kiya Tha Tumne

तेरी नफ़रत बता रही है कितना मोहब्बत किया था तुमने

Teri Nafrat bata Rahi hai Shayari

Teri Nafrat Bata Rahi Hai Shayari:


90. Waqt Nahin Hai Mere Paas Un Logo Se Nafrat Karne Ko
Jo Mujhse Nafrat Kiya Karte Hain
Kyunki Byast Hun Main Mohabbat Karne Mein Unse
Jo Hamse Mohabbat Kiya Karte Hain

वक़्त नहीं है मेरे पास उन लोगो से नफ़रत करने को
जो मुझसे नफ़रत किया करते हैं
क्यूंकि ब्यस्त हूं मै मोहब्बत करने में उनसे
जो हमसे मोहब्बत किया करते हैं


91. Ishq Ho Ya nafrat, Mujhse Kuch Bhi Karlo
Magar Yaad Rakhna Wahi Tumhe Duguna Milega

इश्क़ हो या नफ़रत मुझसे कुछ भी कर लो
मगर याद रखना वही तुम्हे दुगुना मिलेगा


92. Pahle Ishq, Phir Narajgi, Aur Ab Nafrat
Bada Tarqib Se Tumne Mujhe Barbad Kar Diya

पहले इश्क़, फिर नाराजगी, और अब नफरत
बड़ा तरकीब से तुमने मुझे बर्बाद कर दिया


93. Nafrat Karne Ka Koi Tariqa Mujhe Bata Do Yaro
Warna Meri Barbadi Ka Sabab Mera Ishq Hi Ban Jayega

नफ़रत करने का कोई तरीक़ा मुझे बता दो यारो
वरना मेरी बर्बादी का शबब मेरा इश्क़ ही बन जाएगा


Dard Bhari Nafrat Shayari

94. Dard Mili, Zulm-O-Sitam Mili, Nafrat Mili
Jindagi Bit Gayi Magar Mohabbat Na Mili

दर्द मिली, ज़ुल्म-ओ-सितम मिली, नफरत मिली
जिंदगी बीत गई मगर मोहब्बत ना मिली


95. Mahfil Mein Khushiyon Ka Najara Tha
Har Shai Mein Mahak Tumhara Tha
Shayad Ham Tumhare Pyar Ke Qabil Nahin
Tabhi To Chehre Pe Nafrat Ka Fauwara Tha

महफ़िल में खुशियों का नजारा था
हर शै में महक तुम्हारा था
शायद हम तुम्हारे प्यार के काबिल नहीं
तभी तो चेहरे पे नफरत का फव्वारा था


96. Teri Nafrat Me Wo Dam Nahin Jo Mere Chahat Ko Mita De
Mohabbat Koi Khel Nahi Jo Do Pal Ro Kar Bhul De

तेरी नफ़रत में वो दम नहीं जो मेरे चाहत को मिटा दे
मोहब्बत कोई खेल नहीं जो दो पल रो कर भुला दे


97. Dar, Narajgi Ya Phir Nafrat
Kuch To Jarur Hai Jo Tumhe Mujhse Dur Karti Hai

डर, नाराज़गी, या फिर नफ़रत
कुछ तो जरूर है जो तुम्हे मुझसे दूर करती है


98. Ishq Kiya Hai Tumse Isliye Fiqr Karta Hun
Agar Nafrat Ho Gayi To Zikr Bhi Nahin Karunga

इश्क़ किया है तुमसे इसलिए फिकर करता हूं
अगर नफ़रत हो गई तो ज़िक्र भी नहीं करूंगा


99. Mere Dil Ki Arzoo Ye Hai Ki Pyar Tujhse Karun
Warna Tumhari Ada To Nafrat Ke Qabil Bhi Nahin

मेरे दिल की आरज़ू ये है कि प्यार तुझसे करूं
वरना तुम्हारी अदा तो नफ़रत करने के काबिल भी नहीं


Ehsas Badal Jate Hain Shayari:

100. Bas Ehsaas Badal Jaate Hai Warna Nafrat Aur Mohabbat To Ek Hi Dil Mein Hoti Hai

बस अहसास बदल जाते हैं वरना नफ़रत और मोहब्बत तो एक ही दिल में होते हैं

Ehsas Badal Jate Hain Shayari

Ehsas Badal Jate Hain Shayari:


101. Wo Nafrat Karte Hain Pyar Ke Liye
Inkar Karte Hain Iqraar Ke Liye
Ulti Chaal Chalte Hain Ishq Karne Wale
Aankhen Band Karte Hain Didar Ke Liye

वो नफरत करते हैं प्यार के लिए
इंकार करते हैं इकरार के लिए
उल्टी चाल चलते हैं इश्क़ करने वाले
आंखे बंद करते हैं दीदार के लिए


102. Nafrat Ho Gayi Mujhe Mohabbat Ke Naam Segaja
Beqsasoor Ko Isne Mara Hai Tadpa Tadpa Ke

नफ़रत हो गई मुझे मोहब्बत के नाम से
बेकसूर को इसने मारा है तड़पा तड़पा के


103. Ajab Si Adat Aur Gajab Ki Fitrat Hai Meri
Mohabbat Ho Ya Nafrat Badi Shiddat Se Karta Hun
अजब सी आदत और गजब की फितरत है मेरी
मोहब्बत हो या नफ़रत बड़ी शिद्दत से करता हूं

Read Dard Bhari Shayari